What is a Client Server Architecture in Hindi? Client Server Model




Client Server Architecture
Client Server Architecture 





नमस्कार दोस्तों, आज के इस आर्टिकल में हम देखेंगे कि Client Server Architecture क्या होता है? इस architecture के पढ़ने से पहले हमे जानना होगा कि आखिर client और server होता क्या है और यह किस तरीके से काम करते है? कंप्यूटर में networking एक बहुत important concept होता है और इसी की मदद से यह Client Server Architecture भी काम करता है। कंप्यूटर नेटवर्क उसे कहते है जो जब दो या दो से ज्यादा कम्प्यूटर्स आपस में वायर या वायरलेस माध्यम के जरिये जुड़े होते है। नेटवर्क बनाने के बाद कंप्यूटर आपस में कम्युनिकेशन करना, फाइल्स शेयर करना, रिसोर्सेज शेयर करना, आदि काम कर सकते है। तो चलिए अब जानते है क्लाइंट और सर्वर के बारे में, जो नीचे बताया गया है। 



What is Client?

क्लाइंट-सर्वर आर्किटेक्चर में एक client होता है और दोसरा server। क्लाइंट एक कंप्यूटर सिस्टम होता है जो की किसी सर्वर के द्वारा मैनेज किया जाता है। एक क्लाइंट किसी भी तरह की रिक्वेस्ट कर सकता है जो कि सर्वर वो सर्विसेज उस क्लाइंट को देता है। 



What is Server?

क्लाइंट-सर्वर आर्किटेक्चर में एक सर्वर होता है। यह सर्वर एक या एक से ज्यादा क्लाइंट को सर्विसेज प्रदान करता है। सर्वर उसे कहते है जो सर्विसेज देता है। यह सर्विसेज कुछ भी हो सकती है जैसे एक वेबपेज, डाटा, फाइल्स, आदि। 



Also Read -:

What are the Some Important Shortcut Keys For Computer in Hindi?

What is a Firmware? Where is the firmware stored? Explain in Hindi

What is the history of Nanotechnology in Hindi? Inventor of Nanotechnology




What is a Client-Server Architecture?

Client-Server Architecture एक नेटवर्क आर्किटेक्चर होता है। जिसमे एक क्लाइंट और एक सर्वर होता है। क्लाइंट एक कंप्यूटर होता है जो कि सर्वर के पास रिक्वेस्ट भेजता है और जो सर्वर होता है वो उस क्लाइंट के रिक्वेस्ट का रेपोंड देता है। एक क्लाइंट किसी भी तरह की रिक्वेस्ट कर सकता है जैसे कि एक वेबपेज, फिर सर्वर उस क्लाइंट को यह वेबपेज रेपोंड के तौर पे भेज देता है।  

इंटरनेट से बहुत सारे computers जुड़े हुए है, जो कि आपस में communicate करते है। इनमे कुछ कंप्यूटर clients है तो कुछ server computers है। एक नेटवर्क में कई सारे क्लाइंट होते है और एक main सर्वर होता है जो कि जब भी किसी क्लाइंट के request करने पर respond करता है। जैसे कि किसी क्लाइंट ने किसी फाइल के लिए request करता है तब सर्वर उस request के बदले वो फाइल send कर देता है। इसे Client-Server model भी कहते है। 

Client-Server model एक ऐसा मॉडल है जो कि यह दर्शाता है कि किस तरह से एक नेटवर्क में एक main server बाकी सभी clients (computers) को services या resources provide करता है। 



Thanks For Reading My Article





एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ