What are the Types of Cloud Computing in Hindi?



Cloud Computing
Cloud Computing Types



इस आर्टिकल में हम cloud computing के बारे में पढ़ेंगे और इसके कितने type होते है ? पहले के आर्टिकल में हमने cloud computing क्या होती है और इसके कुछ उदाहरण के बारे में पढ़ा था लेकिन आज हम इसके प्रकार के बारे में पढ़ेंगे। What are the types of Cloud Computing in Hindi?



What is Cloud Computing?

Internet की मदद से लोगो को cloud services या computing services प्रदान करना ही Cloud Computing होती है। आज कल हर कोई इंटरनेट इस्तेमाल कर रहा है और कोई हर यही चाहता है उसे कम से कम पैसा खर्च करना पड़े और सर्विसेज ज्यादा मिल पाए जैसे अगर आपको अपनी बहुत सारी फाइल्स को store करना है तो आपको ज्यादा storage वाली हार्ड डिस्क खरीदनी पड़ेगी जिसकी cost भी ज्यादा होगी लेकिन अगर वही फाइल्स अगर आप cloud-based storage पर store करदे तो आपकी फाइल्स secure भी रहेगी और cost भी कम होगी। क्लाउड कंप्यूटिंग इन्ही सारी प्रोब्लेम्स का सलूशन है। Cloud बहुत सारे कम्यूटर्स ही होते है जो कि इंटरनेट की मदद से लोगो को कम कॉस्ट पर computing services देते है जैसे क्लाउड स्टोरेज, नेटवर्किंग या फिर किसी सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल। आप अपनी images को edit करने के लिए किसी सॉफ्टवेयर को install किये बिना सिर्फ internet पर cloud services की मदद से edit कर सकते हो। इसके लिए आपको कोई high specification वाला कंप्यूटर लेने की जरुरत नहीं। 


Also read -:

Types of Cloud Computing in Hindi

Cloud Computing को इनके Services के आधार पर तीन भागो में divide गया है - 


1. Infrastructure as a Service (IaaS)

यह एक cloud computing model है। इस तरह की service में cloud का computing power, नेटवर्क पावर, स्टोरेज, सॉफ्टवेयर और बाकी सारे controls user के पास होते है। इस तरह की service को ज्यादातर businesses इस्तेमाल करते है। इस service को कुछ cloud providers businesses को virtualized infrastructure के रूप में देती है। इसमें businesses को storage, server, और cloud networking को internet की मदद से outsource करती है। इसका उदाहरण है VPS (Virtual Private Server), इसमें आपको नेटवर्क, software और computing power भी मिलती है। 



2. Platform as a service (PaaS)

इसमें एक user को सिर्फ एक platform मिलता है। इसमें user को storage या फिर computing power दी जाती है। इस service में आप चीज़ो को पूरी तरह से control नहीं कर सकते है। एक cloud provider ही इसे control करता है। इसका उदाहरण gmail, rediff, outlook, yahoo, आदि है। 



3. Software as a service (SaaS)

इस तरह की service में एक user को किसी server पर hosted software मिलता है। इसमें user को किसी भी सॉफ्टवेयर को install करने की जरुरत नहीं होती है यह सॉफ्टवेयर remote server पर stored रहता है और user इसको इस्तेमाल कर सकता है। यह सॉफ्टवेयर किसी particular काम को करने के लिए बनाया होता है। इसका उदाहरण google docs या google sheets जैसे softwares शामिल है। 


Cloud Computing को इनके Deployment के आधार पर तीन भागो में divide गया है - 


1. Public Cloud

Public Cloud हर किसी के लिए उपलब्ध रहता है और यह सर्विस प्रोवाइडर के द्वारा ही मैनेज होता है। पब्लिक क्लाउड सर्विसेज को काफी बार फ्री रहती हैं या फिर इनके काफी कम चार्ज होते है। उदाहरण के लिए अमेज़न वेब सर्विसेज (AWS) और माइक्रोसॉफ्ट azure, यह सभी पब्लिक Cloud Computing होते है। 



2. Private Cloud

Private Cloud में services और network किसी एक private cloud (server) पर store कर दिया जाता हैं। इसमें user इस प्राइवेट cloud को अपने लिए इस्तेमाल करता है और यह cloud storage एक user के लिए होता है और कोई दूसरा इंसान इस क्लाउड स्टोरेज को access नहीं कर सकता है। उदाहरण के लिए google drive जो कि एक private Cloud Computing होता है। इस drive में आपका सारा data आपके ही ईमेल ईद और पासवर्ड से secure होता है और इसे आप ही सिर्फ अपने ईमेल ईद और पासवर्ड की मदद से इस cloud storage को access कर सकते हैं। 



3. Community Cloud

Community Cloud सिर्फ एक group के लोगों के लिए बनाया होता है। इसके अलावा और कोई दूसरा अन्य बाहरी व्यक्ति इस data को access नहीं कर सकता है। उदाहरण के लिए किसी सरकारी दफ्तर में सिर्फ उसके employees ही उसकी site पर रखा सारा data को इस्तेमाल कर पाएंगे।



4. Hybrid Cloud

Hybrid Cloud में private cloud और public cloud दोनों के combination का इस्तेमाल होता है। इसमें आप अपनी जरूरत के हिसाब से cloud का इस्तेमाल कर सकते है, यानी कि important application को आप किसी private cloud में रखते है और बाकी application को आप public cloud में रखते है। किसी site पर कुछ चीज़े केवल रजिस्टर (private) लोगों के लिए उपलब्ध हो और कुछ चीज़े public लोगों के लिए उपलब्ध हो तो ऐसे cloud को ही Hybrid Cloud कहा जाता है। 




Thanks For Reading My Article



एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ

  1. I'm Ruhul Amin, from Assam Guwahati (India) I have been Running this Blog since 2020 with my full effort to Help users in the Tech field and clear doubt and provide advanced guides in simple methods.

    जवाब देंहटाएं