What is Dark Web in Hindi? Darknet Market and how to use it?

 


Dark Web
Dark Web





आज के आर्टिकल में हम डार्क वेब के बारे में पढ़ेंगे। Dark Web क्या होता है? Darknet Market किसे कहते है? डार्क वेब किस लिए इस्तेमाल किया जाता है? डार्क वेब को कैसे इस्तेमाल करते है? इससे पहले के आर्टिकल्स में हमने इंटरनेट के सरफेस वेब और डीप वेब के बारे में पढ़ा था। इंटरनेट का मुश्किल से केवल 10% या उससे भी कम सरफेस वेब होता है और बाकी का 90% deep web होता है। डार्क वेब की बात करे तो यह डीप वेब का ही एक भाग होता है। डीप वेब पर हर किसी की IP hidden रहती है और इसका फायदा लोग गलत कामो के लिए इस्तेमाल करते है और वही से डार्क वेब का जन्म होता है। डार्क वेब डीप वेब के ही एक छोटे से हिस्से को बोला जाता है। 




What is Dark Web?

Internet का एक हिस्सा है जिसे deep web कहा जाता है और उस डीप वेब में एक छोटा सा हिस्सा है जिसे dark web कहा जाता है। डार्क वेब पर सारे गैर क़ानूनी काम किया जाते है जैसे - चाइल्ड ट्रैफिकिंग, ड्रग डीलिंग, पोर्न, मर्डर, आदि। डार्क वेब की वेबसाइट पब्लिक नहीं होती है और न ही कोई आम इंसान इन वेब्सीटेस को एक्सेस कर पाता है। इसमें IP address को hide कर दिया जाता है और इनको ट्रैक करना भी काफी ज्यादा मुश्किल होता है और इसी वजह से यहाँ पर इललीगल काम किया जाते है। 

डार्क वेब की वेब्सीटेस सर्च इंजन के द्वारा index नहीं होती और इसके लिए लोग कुछ स्पेशल tool का इस्तेमाल करते है जैसे - तोर ब्राउज़र (Tor Browser) । तोर ब्राउज़र एक स्पेशल ब्राउज़र होता है जिसकी मदद से हम डीप वेब या डार्क वेब की वेब्सीटेस को देख सकते है लेकिन इसके लिए भी हमारे पास लिंक होनी चाहिए तभी हम इन साइट्स को देख पाएंगे। 




Read -:

What is Deep Web in Hindi? Uses, Advantages and Disadvantages

What is Surface Web in Hindi? Advantages and Disadvantages

What is the Internet in Hindi? History? Advantages and Disadvantages?





What is DarkNet Market?

Darknet Market में वो सारी industries आती है, जिनको डार्क वेब से ही operate किया जाता है। इस मार्किट में सारे illegal चीज़ो की ब्लैक मार्केटिंग होती है और चाइल्ड ट्रैफिकिंग, ड्रग्स स्मगलिंग, हैक एकाउंट्स, क्रेडिट कार्ड के नंबर्स, किसी को जान से मारने के लिए hire करना और भी कही गलत काम इस मार्किट में किया जाते है। 



Dark Web कैसे काम करता है और इसको कैसे use करे?

Dark Web के काम करने का तरीका एक normal web से बिलकुल ही अलग होता है। डार्क वेब की वेब्सीटेस को access करना इतना आसान नहीं होता इसके लिए आपको एक स्पेशल ब्राउज़र जिसे तोर ब्राउज़र कहा जाता है उसका इस्तेमाल करना होगा। यह आपके नार्मल ब्राउज़र से एक्सेस नहीं हो सकता। इन डार्क वेब की वेब्सीटेस की extension भी नार्मल वेब्सीटेस से अलग होती है, एक नार्मल वेब्सीटेस की extension .com, .in, .org या .net से होती है लेकिन डार्क वेब की वेबस्टेस की extension .onion होती है। 

डार्क वेब में enter उतना आसान भी नहीं है और इसमें काफी खतरा रहता है और वैसे भी किसी को भी डार्क वेब में जाना नहीं चाहिए क्योकि यहाँ सब गलत काम ही होता है और आप इसमें जेल भी जा सकते है। 

अगर आप डार्क वेब में एंटर करना चाहते है तो आपको यह कुछ चीज़ो का ध्यान रखना बहुत जरुरी है -:


1. सबसे पहले तो आपको एक secured VPN service चाइये होगा ताकि आप अपनी identity को hide करके रख सके और hack होने से बच सके क्योकि डार्क वेब पर कई ऐसे hackers होते है जो आपको शिकार बना सकते है और आपका data चोरी कर सकते है। 


2. उसके बाद आपको Tor ब्राउज़र की जरुरत पड़ेगी ताकि आप अपने computer में डार्क वेब्सीटेस को access कर सके। 


3. उसके बाद आपको अपने कंप्यूटर के running apps और programs को close कर देना चाहिए ताकि dark websites को access या crawl करने में दिक्कत न हो। 


4. डार्क वेब्सीटेस को सर्च करने के लिए आप gram सर्च इंजन का इस्तेमाल कर सकते है जो कि डार्क वेब्सीटेस को सर्च करने के लिए होता है बिलकुल जैसे आप लोग गूगल सर्च इंजन का इस्तेमाल करते है। 

तो यह कुछ basic चीज़े थी जो आपको ध्यान में रखना जरुरी है। 




Thanks For Reading My Article



एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ